Poems

दुआ

वो एहसास भी मुरझा गए , तेरे दिए फूलों की तरह ….. हम भी मोहब्बत के मारे हो गए औरों की तरह ……. तू आया था अपनी मर्ज़ी से मर्ज़ी से चला गया मेरे दर पर न लौटा तू मौसमों की तरह ……. क्या छुपाऊं मैं पलकों के पर्दों से अब छलक ही जाता है दर्द… Continue reading दुआ

Poems

कभी कभी तो मिलते हो…

कभी चाँद से दिखते हो कभी किसी कमल से खिलते हो कभी किसी लम्हे से गुज़रते हो तुम कभी कभी तो मिलते हो ……. कभी हौले से बादलों से निकलते हो कभी रिम झिम फुहार से बरसते हो कभी गुनगुनी धूप से लगते हो तुम कभी कभी तो मिलते हो …. कभी सुबह से निखरते… Continue reading कभी कभी तो मिलते हो…

Poems

जब तुम मुझसे प्यार करोगे ….

जब तुम मुझसे प्यार करोगे तब तुम कभी नहीं कहोगे की तुम मुझसे प्यार करते हो …… तब मेरे आंसूं तुम्हारी ऑंखें नाम कर देंगे मेरी हंसी से तुम्हारे ग़म मुस्कुरायेंगे तब तुम्हारी हर हंसी कहेगी की तुम मुझसे प्यार करते हो ……… जो मुझे पसंद कभी ना आ पाए ऐसा कुछ चाहकर भी तुम्हारा… Continue reading जब तुम मुझसे प्यार करोगे ….

Poems

For Banasthali

THIS POEM IS DEDICATED TO BANASTHALI VIDYAPITH…..My Second home…. वो एक सड़क सीधी सीधी जिसने इस जीवन की राह दिखाई वो एक सड़क सीधी सीधी जिसने दुनिया की पहचान कराई वो एक सड़क सीधी सीधी जिसपे चलके हर मोड़ जीतने की हिम्मत आई वो एक सड़क सीधी सीधी जिसने हमारी हमसे पहचान कराई वो एक… Continue reading For Banasthali

Poems

ज़िंदगी…कभी…

ज़िंदगी से कहा हमने कभी फ़ुर्सत मे आया करो कुछ वक़्त तो कभी हमारे साथ भी बिताया करो तुम कभी इसके साथ, तो कभी उसके साथ ही हो कुछ रिश्ते तो यार हमसे भी निभाया करो तुम कब मिली, कब गुज़री और अब कब मिलोगि अपने आने जाने के बारे मे हमे भी बताया करो… Continue reading ज़िंदगी…कभी…