Uncategorized

फ़ैसला

ज़िंदगी मे हक़ीक़त और ख्वाब मे फासला है फासला भी ज़्यादा नही बस कुछ कदम का है फ़र्क सारा तब तक का ही है मेरे दोस्त जब कोई कदम तुम्हारा उस राह पे नही उठा है एक भी कदम जो तुमने बढ़ा लिया उस राह पे फिर ये जान लो सफ़र नही ये ज़्यादा लंबा… Continue reading फ़ैसला